प्रधानमंत्री ने प्रयागराज में एक नए हवाई अड्डा परिसर एवं कुंभ मेले के लिए समेकित कमान एवं नियंत्रण केन्द्र का उद्घाटन किया; विकास परियोजनाएं आरम्भ कीं

0
7692

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज प्रयागराज में एक नए हवाई अड्डा परिसर और कुंभ मेले के लिए समेकित कमान एवं नियंत्रण केन्द्र का उद्घाटन किया।

प्रधानमंत्री ने गंगा पूजन भी किया तथा स्वच्छ कुंभ प्रदर्शनी का अवलोकन किया। उन्होंने प्रयागराज में अक्षय वट का भी दौरा किया। उन्होंने प्रयागराज के अंडावा में भी विभिन्न विकास परियोजनाओं को राष्ट्र के नाम समर्पित किया, उनका उद्घाटन किया या शिलान्यास किया।

एक विशाल जनसमूह को संबंधित करते हुए उन्होंने घोषणा की कि इस बार अर्द्ध कुंभ के तीर्थयात्री अक्षय वट की यात्रा करने में भी सक्षम हो पाएंगे। उन्होंने कहा कि सरकार प्रयागराज के लिए अच्छा संपर्क सुनिश्चित करने का हर संभव प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि जिन परियोजनाओं को आज समर्पित किया गया वे बुनियादी ढ़ांचे एवं संपर्क दोनों की सहायता करेंगे। उन्होंने कहा कि नये हवाई अड्डा टर्मिनल का निर्माण एक वर्ष के रिकार्ड समय में पूरा कर लिया गया था।

प्रधानमंत्री ने कहा कि अर्द्ध कुंभ आने वाले भक्तों के लिए एक अनूठा अनुभव सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारत के गौरवशाली अतीत और गतिशील भविष्य को प्रदर्शित करने का प्रयास किया जा रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार स्वच्छ गंगा सुनिश्चित करने पर भी कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि इस संबंध में सीवेज उपचार संयंत्र एवं घाटों के सौन्दर्यीकरण की बड़ी भूमिका होगी।

प्रधानमंत्री ने कुंभ की भारत एवं भारतीयता के एक प्रतीक के रूप में व्याख्या की। उन्होंने कहा कि यह हमें एकजुट करता है और एक भारत, स्वच्छ भारत की झलक प्रस्तुत करता है। उन्होंने कहा कि कुंभ का आयोजन केवल विश्वास की बात नहीं है बल्कि यह सम्मान की भी बात है और कुंभ जाने वाले प्रत्येक व्यक्ति का अच्छी तरह ध्यान रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि अर्द्ध कुंभ प्रदर्शित करेगा कि किस प्रकार ‘नवीन भारत’ विरासत एवं आधुनिकता दोनों को समावेशित करता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि वह देश को सावधान करना चाहते हैं कि कुछ तत्व न्यायपालिका पर अनुचित दबाव बनाने के प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे तत्व अपने को सभी प्रकार के संस्थानों से ऊपर समझते हैं।

LEAVE A REPLY